Advanced Search
اردو
English
 
 
 
  NS1: 528   
तहयतुल मसजिद पढ़ने की दुसरी कैफियत

  NS1: 527   
नबी करीम सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के मधुर बाल

  NS1: 526   
नूरे-मुसतफा सल्लल्लाहु तआ़ला अलैहि वसल्लम की उत्पत्ति

  NS1: 525   
क़ुरान में नमाज़ का आदेश

  NS1: 524   
पायजामे या तेबंद टखनों से नीचे लिटाए हुए नमाज़ पढ़ने की वईद व चेतावनी

  NS1: 383   
हसद के विनाश-

  NS1: 467   
बीवी के लिए अल्लाह के बाद आज्ञापालन में पति का दर्जा है-

  NS1: 523   
हज़रत सफवान की पत्नी की हुज़ूर की सेवा में अपने पति की शिकायत और इस पर हुज़ूर का निर्णय

  NS1: 522   
पैगम्बर - निर्माण के मार्ग-दर्शक

  NS1: 521   
पसंदीदा फक़्र व गरीबी

 
> Back
संवाद सविस्तार
   
  धर्म के पूर्वजों का वज्द
   
 

 धर्म के पूर्वजों का वज्द

 

निष्कर्ष यही है के ऐसे सोंच-विचार पैदा हों, क्यों के जो हालत आदमी पर ग़ालिब होती है इ के आसार का प्रकटन में आना अवश्य है।  देखीए किसी प्रकार की हालत का जब ग़लबा हो जाता है तो मनुष्य आत्महत्या कर लेता है हालांकि मानव जाति के स्वभाव की अपेक्षा है के अपनी जान बचाने की तदबीरें करें। 

 

परन्तु ग़ल्बा हाल इस स्वभाव की अपेक्षा पर भी प्रभावित आ जाता है।  शरअ शरीफ ने भी इस हालत की रिआयत रखी है।  अर्थात इज़ेरार में मुरदार खाना श्रेष्ठ हो जाता है। 

 

परन्तु इसी हद तक के जिस से वह हालत रफअ हो, इसी कारण से कुछ लुक़मों के बाद जब वह हालत बाखी ना रहे तो मुरदार जो अवश्यकता के रूप से हलाल हो गया था फिर मुरदार हो जाएगा।  यहीँ से खियास हो सकता है के धर्म के पूर्वज व बुज़ुर्गाने दीन पर जब समाअ आदि में सच्ची हालत वज्द तारी होती है तो कुछ कथन व हरकतें इन से ऐसे प्रदर्शन होते हैं जो शरन व बुद्धि के अनुसार से जायज़ होते हैं, परन्तु क्यों के वह सच्ची हालत होती है इस लिए वह मअज़ूर समझे जाते हैं। 

 

{मक़ासिद उल इस्लाम, जिल्द 08, पः 107}

   
 
 
 
 
 
 
Mail to Us    |    Naqshbandi Calendar    |    Photo Gallery    |    Tell your friends   |    Contact us
Copyright 2008 - Ziaislamic.com All Rights Reserved