***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

فتاویٰ > इबादत > नमाज़ का विवरण

Share |
f:2124 -    खुलेफा-राशिदीन का देहान्त एवं मीलाद की तारीक़
Country : भारत,
Name : अ़ली
Question:     क्या आप मुझे हवालों के साथ चारो खुलेफा राशिदीन के पावन जन्म के तारीक़ बतला सकते हैं?
............................................................................
Answer:     हज़रत सिद्दीख अकबर रज़ियल्लाहु तआला अन्हु का पावन जन्म फील की घटना के लगभग 2 वर्ष चार महीने बाद हुई।  

(अल इक्माल फी अस्मा इर रिजाल)

और आप (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) का धन्य देहान्त मदीना शहर में मग़रिब व इशां के बीच 22 जमादिल उक़रा 13 हिज्री में हुआ।  उस समय आप की उम्र शरीफ 63 वर्ष थी।  

हज़रत सैयदना फारूख आज़म रज़ियल्लाहु तआला अन्हु के पावन जन्म से संबंधित इमाम नववी रहमतुल्लाहि अलैह ने लिखा है के आप का धन्य जन्म आमुल-फील के 13 वर्ष के बाद हुआ।  

(तारीक़ उल खुलेफा, जिल्द 01, पः 43)  

ज़िल हिज्जा के महीने के अंत में सोमवार के दिन आप पर आक्रमण किया गया, तथा प्रथम मोहरम रविवार के दिन हज़रत अबु बक्र सिद्दीख रज़ियल्लाहु तआला अन्हु के पहलू में आप की तदफीन अमल में आई।  

(तारीक़ उल खुलेफा, उमर बिन खत्ताब)

शहादत के समय आप की धन्य उम्र 63 वर्ष थी।  

आमुल फील के छटे वर्ष हज़रत सैयदना उसमान ग़नी ज़ुन-नुरैन रज़ियल्लाहु तआला अन्हु का धन्य जन्म हुआ।  जैसा के तारीक़ उल खुलेफा में उल्लेख है।  

(तारीक़ उल खुलेफा, जिल्द 01, पः 60)  

18 ज़िल हिज्जा 35 हिज्री शुक्रवार के दिन अस्र की नमाज़ के बाद आप ने शहादत पाई आप का पावन मज़ार जन्नतुल बखीअ शरी में है।  जैसा के असदुल ग़ाबा में उल्लेख है।  

हज़रत अबु मअशूर रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से वर्णित है, उन्हों ने कहा के हज़रत उसमान ग़नी रज़ियल्लाहु तआला अन्हु शुक्रवार के दिन, 18 ज़िल हिज्जा, सन 35 हिज्री में शहीद किए गए।  

(असदुल ग़ाबा अल इब्न असीर)  

हज़रत अली मुरतज़ा रज़ियल्लाहु तआला अन्हु का धन्य जन्म शुक्रवार के दिन 13 रज्जब फील के 30 वर्ष हुआ।  और आप की शहादत से संबंधित तफसीलात वर्णन करते हुए इक्माल के लेखक लिखते हैः-

भाषांतरः इब्न मुल्जिम शखी ने सन 40 हिज्री, 17 रमज़ान, शुक्रवार के सवेरे आप पर आक्रमण व हमला किया तथा हमले के 3 दिन बाद 20 रमज़ान मुबारक को आप की विशाल शहादत हुई।  

(अल इक्माल फी अस्मा इर रिजाल)  

{और अल्लाह तआ़ला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है,

मुफती सैय्यद ज़िया उद्दीन नक्षबंदी खादरी

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com