***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

فتاویٰ > व्यवसाय > हलाल व हराम का वर्णन

Share |
f:2019 -    कुत्तों की वंध्यीकरण व रोगाणुनाशन का आदेश
Country : हिंदुस्तान,
Name : मुहम्मद अ़मीन
Question:     हैद्राबाद व अतराफ के म्युनिसिपैलिटी (नगरपालिका) के क्षेत्र में कुत्तों की अधिकता से जनता में भय व ख़ौफ़ का वातावरण उत्पन्न हो गया है नगर में पिछले दिनों पेश आए कुत्तों के आक्रमण के घटना से भी जनता परेशान हैं नगर की बड़ी बस्तियों में कुत्तों की संख्या के कारण से स्कूलों के छात्र, महिलाओं तथा गाड़ियों पर फिरने वाले सदस्य को भी कुत्तों के आक्रमण का संकट व ख़तरा हो गया है, इन हमलों कू रोत थाम के लिए, एम सी एच ने कुत्तों में जननाक्षम बना देने के लिए अहमदाबाद की एनमल हेल्थ पाउन्डेशन की सेवा लेने का निर्णय किया है।  पूछ ये है के क्या कुत्तों की जननाक्षम व वंध्यीकरण करना शरन श्रेष्ठ है?
............................................................................
Answer:     इसलामी शरीअत जानवरों को बिना कारण तकलीफ देने से मना करती है जहाँ तक जानवरों की जाननाक्षम व वंध्यीकरण का विषय है तो इस सिलसिले में फुक़्हा किराम ने स्पष्टीकरण की है के किसी लाभ के लिए या तकलीफ को दूर करने के लिए जानवरों की जननाक्षम किया जाए तो जायज़ है इस में कोई समस्या नहीं।  

जैसा के फतावा आलमगिरी, जिल्द 05, पः 357 पर उल्लेख हैः-

भाषांतरः घोड़े के सिवा दुसरे जानवरों की जननाक्षम करने में कोई समस्या नहीं जब के इस में कोई लाभ हो, बिल्ली की जननाक्षम में कोई समस्या नहीं जब के जननाक्षम करने में कोई लाभ हो या नुकसान का समाप्त होना हो।  

उपर्युक्त वर्णन स्पष्टीकरण से मालूम होता है के जानवरों की जननाक्षम व वंध्यीकरण करने में कोई लाभ हो या नुकसान दूर करना उद्देश्य हो तो जायज़ हैजब कुत्ता रास्ता चलने वालों के लिए तकलीफ अड़चन का माध्यम हो तो इसके नुकसान से बचने के लिए इस प्रकार के क़दम उठाना अवश्य है ताकि बच्चे, महिलाओं एवं पुरुष लोग अमन व शान्ति के साथ चल फिर सकें तथा उन्हें कुत्तों के हमलों का कोई ख़तरा व आशंका बाखी ना रहे।  

{और अल्लाह तआला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है,

मुफती सैय्यद ज़ियाउद्दीन नक्षबंदी खादरी,

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com