***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

FATAWA > Search FAQ

Share |
f:2016 -    नाफ के नीचे के बाल साफ करने का आदेश
Country : शैखपेट, हैद्राबाद,
Name : मुहम्मद जावीद
Question:     नाफ के नीचे के बाल साफ करना फर्ज़ है या वाजिब है या सुन्नत है?  क्या इस की कोई काल निर्धारित है?  यदि नाफ के नीचे एवं बग़ल के बाल साफ ना किए जाएँ तो क्या नमाज़ें मकरूह हो जाती है?  क्या कोई व्यक्ति अपने बूढ़े पिता के बाल साफ कर सकता है, या ये अवश्य नहीं?
............................................................................
Answer:     इसलाम तहारत व पवित्रता, शुद्धता वाला धर्म है।  इसलामी शरीअत में बाहर व भीतर की तहारत व पवित्रता को अत्यन्त महत्व दिया गया है तथा इसके मसाइल व प्रावधान (अहकाम) को विस्तार के साथ वर्णन किया गया है।  

अर्थात बग़ल की सफाई एवं नाफ के नीचे के बालों को निकालने का आदेश इसी तात्पर्य से है।  

ये सुन्नत एवं फितरत के कर्म से है।  सप्ताह में एक बार सफाई करना मुसतहब एवं विशेष शुक्रवार के दिन इस का प्रबन्ध करना प्रतिष्ठा व उत्तमता का माध्यम है।  

15 दिन के विलम्भ से करना भी जायज़ है।  हाँ 40 दिन से अधिक समय तक ना निकालना मकरूह तहरीमी है।  यदि 40 दिन से अधिक समय तक बग़ल एवं नाफ के नीचे के बाल ना निकाले जाएँ तो इस के कारण से नमाज़ मकरूह नहीं होती किन्तु ये कर्म स्पष्ट पाप एवं मकरूह तहरीमी है।  

हदीस में इस की कठिन चेतावनी आई हैः-

भाषांतरः हज़रत अनस बिन मालिक रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से वर्णित है आप ने फरमायाः मूँछें कांटना, नाखून काटने, बग़ल के बाल निकालने एवं नाफ के नीचे के बाल साफ करने से संबंधित हमारे लिए समय व काल निर्धारित व नियुक्त किया गया के हम 40 दिन से अधिक ना छोड़ें।  

(सहीह मुसलिम, जिल्द 01, पः 129, हदीस संख्याः 258)  

अब रहा बेटा अपने बूढ़े पिता के बालों की सफाई कर सकता है या नहीं?  तो याद रहे के बेटे का बिना अवश्यकता अपने पिता के सतर के स्थान (गुप्तांग) देखना एवं इस को छूना शरन नाजायज़ व हराम है।  

जैसा के तन्वीर उल अबसार मअ दुर्रे मुक़तार, जिल्द 05, पः 257/258 पर भी उल्लेख हैः-

अर्थात किसी व्यक्ति को अपने पिता के नाफ के नीचे के बाल की सफाई की शरीअत के आधार में आज्ञा नहीं दी जा सकती, इसी लिए वह खुद अपने बालों की सफाई कर लें यदि उस्तरे के उपयोग में कोई आशंका हो तो शरीअत में सम्भावना व गुंजाईश है के वह इसके बजाए क्रीम व केमिकल के द्वारा बालों की सफाई कर लें, अन्य स्थिति में खुद इन की पत्नी सफाई करे तो कोई समस्या नहीं।  

जैसा के दुर्रे मुक़तार, जिल्द 05, पः 288 पर उल्लेख है।  

{और अल्लाह तआला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है,

मुफती सैय्यद ज़ियाउद्दीन नक्षबंदी खादरी,

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com