***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

فتاویٰ > व्यवसाय > हलाल व हराम का वर्णन

Share |
f:2012 -    चोरी से सुरक्षा के लिए कुत्ता रखना
Country : वट्टे पल्लि, हैद्राबाद,
Name : माजि हुसैन
Question:     चोरी एवं घातक के घटना में प्रतिदिन बढ़ोतरी हो रही है जिस के कारण से लोगों में भय व खौफ़ उत्पन्न हो गया है क्या ऐसी स्थिति में कुत्ता पालने की आज्ञा है जब के वे हराम जानवर है?
............................................................................
Answer:     धन व पशुधन (मवेशी) तथा खेती के लिए कुत्ता पालना जायज़ है।  बिना इन उद्देश्य के पालना नाजायज़ है।  

सरकार पाक सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने कुत्ता रखने पर चेतावनी वर्णन की है के कर्म के पुस्तक से प्रत्येक दिन नेकियाँ कम हो जाती हैं किन्तु आप सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने शिकार के लिए एवं मवेशियों को भेडिए आदि से बचाने के लिए कुत्ता रखने की आज्ञा प्रदान की है।  

ज़ुजाजातुल मसाबीह में हदीस पाक हैः-

भाषांतरः हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ियल्लाहु तआला अन्हु वर्णित करते हैं के रसूलउल्लाह सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने कहा जो व्यक्ति सुरक्षा वाले एवं शिकारी कुत्ते के सिवा कोई कुत्ता रखे उसके कर्म में से दैनिक 2 खीरात (के समान कर्म0 कम हो जाएँगे।  

(ज़ुजाजातुल मसाबीह, जिल्द 03, पः 304)  

इसी कारण से बिना किसी लाभ के कुत्ता रखना मकरूह है किन्तु किसी अवश्यकता एवं लाभ के प्रति रखना जायज़ है इश में कोई समस्या नहीं।  

उपर्युक्त वर्णन के बिना पर सुरक्षा वाले एवं शिकारी कुत्ते पर अनुमति कर के जान व धन की सुरक्षा तथा चोरी के भय से बचने के लिए कुत्ता रखने की आज्ञा दी गई है।  

जैसा के फतावा आलमगिरी, जिल्द 06, पः 640 पर उल्लेख है।  

चोरों आदि के ख़ौफ़ व भय से कुत्ता रखने में समस्या नहीं क्यों के सुरक्षा एवं रखवाली के लिए कुत्ता रखना शरन जायज़ है।  

ज़ुजाजातुल मसाबीह के अर्थकारी लेख, जिल्द 03, पः 30 में भी उल्लेख हैः-

प्रत्येक कुत्ता सुरक्षा के गुण रखता है क्यों के भेडिए या चोर को देखने के समय भौंकना कुत्तों की आदत है।  

{और अल्लाह तआला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है,

मुफती सैय्यद ज़ियाउद्दीन नक्षबंदी खादरी,

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com