***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

فتاویٰ > व्यवसाय > हलाल व हराम का वर्णन

Share |
f:2011 -    यौवन में सफेद बाल उत्पन्न हों तो काली मेहंदी लगाने का आदेश
Country : नान्देढ़, हिंदुस्तान,
Name : इ़रफाना बेगम
Question:     युवक में सर के बाल सफेद हो जाते हैं तो क्या शरीअत में ऐसी सम्भावना व गुंजाईश मिलती है के इस को काली मेहंदी लगाई जाए?
............................................................................
Answer:     काला रंग लगाना कठिन पाप है चाहे युवक में हो या बुढ़ापे में।  हदीसों में इस पर कठिन चेतावनी आई हैं।  सुनन अबु दाउद में हदीस पाक हैः-

भाषांतरः हज़रत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रज़ियल्लाहु तआला अन्हु से वर्णित है हज़रत रसूलउल्लाह सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने फरमायाः अंतिम ज़माने में कुछ लोग होंगे कबूतर की छाती के प्रकार काले रंगना लगाएँगे के वे लोग जन्नत की सुगन्ध भी ना पाँगें।  

(सुनन अबु दाउद, पः 578)  

मिश्कात शरीफ, पः 382 में हैः-

भाषांतरः हज़रत जाबिर रज़ियल्लाहु तआला अन्हु वर्णित करते हैं के मक्के के विजय के दिन हज़रत अबु खुहाफा रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को नबी अकरम सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की पावन सेवा में लाया गया, उन के सर और दाढ़ी के बाल सग़ामा की प्रकार अत्यन्त सफेद थे जो सफेद फूलों वाला एक प्रकार का वृक्ष जैसा है तो नबी पाक सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने फरमायाः इस सफेदी को किसी और वस्तु व चीज़ से बदलो एवं काले रंग से दूर रहो।  

इस हदीस पाक में काला रंग लगाने की निषिद्ध एवं इस से दूर व परिमित रहने का स्पष्ट कर्म है।  उपर्युक्त वर्णन के बिना पर इस से स्पष्ट रूप से दूर रहा जाए इस का उपयोग जायज़ नहीं है।  काले रंग से सिवा दुसरे रंग जैसे लाल रगं शुद्ध मेहंदी का रंग जायज़ है।  

जैसा के फतावा आलमगिरी, किताब उल कराहया में उल्लेख हैः-

दाढ़ी एवं सर के बाल में रंगना करना अच्छा है।  परन्तु मेहंदी कतम एवं नील के पत्ते से रंगना किया जाए।  

अर्थात हदीस पाक में इस की स्पष्टीकरण मिलती है।  सुनन अबु दाउद में हैः-

सर्वश्रेष्ठ रंगना मेहंदी एवं नील है।  किन्तु योद्धा व मुजाहिद के लिए काले रंग का रंगना उपयोग करने की आज्ञा है।  

जैसा के दुर्रे मुक़तार, जिल्द 05, किताब उल क़तरी वल इबाहा में उल्लेख है।  

{और अल्लाह तआला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है,

मुफती सैय्यद ज़ियाउद्दीन नक्षबंदी खादरी,

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com