***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

فتاویٰ > व्यवसाय > हलाल व हराम का वर्णन

Share |
f:2005 -    वीर्य व शुक्र टेस्ट के लिए देना
Country : हिंदुस्तान,
Name : इ़नायत अ़ली हिम्मति नक्षबंदी खादरी
Question:     अस्सलामु अलैकुम वरहमतुल्लाहि वबरकातुह!  मेरा इलाज चल रहा है, मुझे अपने वीर्य व शुक्र के टेस्ट के लिए वीर्य का नमूना देना था, क्या ये सत्य है?  

नमूना व सैम्पल देने के बाद क्यों के मैं काम पर था, इस लिए मुझे घर जा कर स्नान करने का अवसर नहीं मिला, मैं नमाज़ छोड़ तो नहीं सकता था तो मैं ने इसी स्थिति में नमाज़ संपादन कर ली, आप क्या कहते हैं?  क्या इस स्थिति में नमाज़ पढ़ना जायज़ है?  क्यों के मेरे पास कोई और रास्ता नहीं था, कृपया उत्तर प्रदान करें।
............................................................................
Answer:     वअलैकुम अस्सलाम वरहमतुल्लाहि वबरकातुह!  वीर्य व शुक्र टेस्ट के उद्देश्य से देना शरन जायज़ नहीं।  इस में कई खराबियाँ हैं, नुत्फा (वीर्य व शुक्र) व्यर्थ होता है।  वासना उत्पन्न करने के उद्देश्य से पति पत्नी के बीच संबंध के अतिरिक्त कोई भी तरीका प्राप्त करना व अपनाया जाए, नाजायज़ है।  

चाहे वह अश्लील चित्रों के द्वारा हो या साधारण स्थिति में हस्तमैथुन के द्वारा या कोई और तरीका हो, आप को इलाज का ये तरीका कभी भी अपनाना नहीं चाहिए।  इस से दूर रहना और अवरोध करना अनिवार्य व अवश्य है।  

यदि इस के अतिरिक्त कोई और तरीका ना हो तो विस्तार से भेजें, उत्तर प्रदान किया जाएगा।  

जैसा के फतावा आलमगिरी में उल्लेख है।  

वासना के साथ वीर्य व शुक्र निकलने की स्थिति में स्नान फर्ज़ होता है।  यदि ऐसी स्थिति पेश आए तो शीघ्र स्नान कर लेना चाहिए।  इस स्थिति में नमाज़ पढ़ना क़ुरान करीम को छूना, क़ुरान करीम ज़ुबानी तिलावत करना, मसजिद में प्रवेश होना जायज़ नहीं।  

आप ने अपवित्रता व अशुद्धता की स्थिति में जो नमाज़ संपादन की है वह नमाज़ संपादन नहीं हुई, ऐसी स्थिति में नमाज़ संपादन करना हराम है।  

नादानी एवं अज्ञानता में आप से बहुत बड़ा पाप हुआ है आप सत्य दिल से तौबा व इस्तेग़फार (पश्चाताप व प्रायश्चित) करें तथा नमाज़ को फिरसे संपादन कर लें (दुहरालें), फर्ज़ नमाज़ छोड़ने की आज्ञा नहीं।  किसी भी रूप से स्नान कर के नमाज़ संपादन करनी चाहिए थी।  

लेखः आप को चाहिए के पवित्रता, वुज़ू, स्नान के मसाइल (समस्या व प्रावधान) शीघ्र मालूम करें तथा सम्पूर्ण इसलाम अहकाम व प्रावधान सुविधा के अनुसार मालूम करते रहें।  

{और अल्लाह तआला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है,

मुफती सैय्यद ज़ियाउद्दीन नक्षबंदी खादरी,

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com