***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

فتاویٰ > व्यवसाय > हलाल व हराम का वर्णन

Share |
f:2004 -    हलाल एवं जायज़ होने का स्तर
Country : पाकिस्तान,
Name : सैय्यद मुहम्मद अज़ीज़ जाविद खादरी
Question:     अस्सलामु अलैकुम! आदेश कीजिए, हलाल, जायज़ का स्तर क्या है?  यदि जायज़ होना किसी खाने की चीज़ साबित करती हो तो ये किसी प्रति है?  एवं कोई कार्य मुबाह व वैकल्पिक साबित करना हो तो ये किस प्रति है?  यथा इन का बांटना किस नाम से किया जाए ताकि इस हवाले से प्रश्न पूछने में सरलता रहे।  धन्यवाद।
............................................................................
Answer:     वअलैकुम अस्सलाम वरहमतुल्लाहि वबरकातुह!  हलाल व निषेध (प्रत्यादेश व निषेधाज्ञा) का स्तर क़ुरान करीम व हदीस पाक है।  इन के आधार में फुक़्हा किराम ने एक प्रधानतः शासन वर्णन किया हैः

चीज़ों में असल जायज़ होना एवं जायज़ है, किसी चीज़ के जायज़ को मुबाह व वैकल्पिक होने के लिए दलील की अवश्यकता नहीं, किन्तु किसी वस्तु व चीज़ के नाजायज़ व हराम या मकरूह होने के लिए दलील चाहिए।  

क़ुरान करीम व हदीस पाक में जिन कर्मों व कार्यकलाप में प्रतिबन्ध है, वह वर्जित हैं।  एवं जिन प्रलोभन व भोजन की निषेध व प्रत्यादेश वर्णन है, वह हराम है।  

नव रचना तरीके, पेय पदार्थ, भोजन, उत्पादन आदि को क़ुरान करीम व हदीस पाक में बतलाए गए सिद्धान्त की कसौटी पर, परखा जाएगा, शरीअत सिद्धान्त व नियम के आधार में यदि वह हराम या मकरूह घोषित पाएँ तो प्रत्यादेश या अनिष्ट व अनुचित का आदेश लगाया जाएगा एवं यदि जायज़ व मुबाह मालूम हों तो इस के संबंधित जायज़ साबित होने का आदेश दिया जाएगा।  

फुक़्हा इसलाम ने क़ुरान व सुन्नत का फिक़्ह के सारांश में जमा किया है।  वर्तमान काल पेश आने वाले आधुनिक व नवीनतम समस्या व मसाइल को इन फुक़्हा के स्पष्टीकरण के आधार में देखा जाएगा।  

ये ज़िम्मेदारी उन उच्च विद्वानों की है जो शरअत के मिज़ाज व स्वभाव से फिक़्ह के संबंधित नियम से अनुभव हों एवं पूर्ण प्रावधान व अहकाम पर गेहरी नज़र रखते हों।  

{और अल्लाह तआला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है,

मुफती सैय्यद ज़ियाउद्दीन नक्षबंदी खादरी,

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com