***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

فتاویٰ > विश्वास > पैगम्बरों पर विश्वास

Share |
f:1233 -    मीलाद की रात तारे खरीब आ गए
Country : कोलकाता,
Name : परवेज़ खान
Question:     हज़रत मुहम्मद मुसतफा सल्लल्लाहु तआ़ला अलैहि वसल्लम के पावन जन्म की रात बहुत सारी ऐसे घटनाएं हुए हैं जो सामान्य रूप में नहीं होते।  ऐसा ही मैं ने सुना है के इस रात तारे धरती के निकट हो गए थे।  क्या ये बात सत्य है?
............................................................................
Answer:     हज़रत नबी अकरम सल्लल्लाहु तआ़ला अलैहि वसल्लम के पावन जन्म की रात बहुत सारे अनोखे घटनाएं हुई।  कई एक असामान्य व असाधारण चीज़ें हुई।  जिन का वर्णन हदीसों की पुस्तकों, जीवन वृत के पुस्तकों और इतिहास के पुस्तकों में विवरण रूप से मिलता है।  कुल इन अनोखे ये है के तारे बहुत निकट दर्जे खरीब हो चुके थे।  

जैसा के अल्लामा मुहम्मद बिन यूसुफ सालेह ने सुबूलुल हुदा वर्रिशाद में हज़रत उसमान बिन अबु यअ़ला रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु के पिता हज़रत फातिमा बिन्त अबदुल्लाह रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हा का वर्णन आख्यान किया हैः-

भाषांतरः- हज़रत उसमान बिन अबु यअ़ला रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु ने फरमायाः मुझे मेरी माता ने वर्णन किया के वह हज़रत सल्लल्लाहु तआ़ला अलैहि वसल्लम के धन्य जन्म के अवसर पर हज़रत आमिना रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हा की सेवा में उपस्थित थीं।  फरमाती हैः मैं ने घर की प्रत्येक चीज़ को रोशन व दीप्तिमान व प्रफुल्ल देका और ये सच्चाई है के तारों को निकट होते देकी।  यहाँ तक के मैं कहने लगीः ये अवश्य मुझ पर गिर जाएंगे।  जब सरकार पाक सल्लल्लाहु तआ़ला अलैहि वसल्लम हज़रत आमिना रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हा पावन गर्भाश्य से बाहर आए तो आमिना रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हा से ऐसा नूर निकला के जिस के कारण सारा घर दीप्तिमान व प्रफुल्ल व रोशन हो गया।  यहाँ तक के मैं नूर ही नूर देखने लगी।  

अल्लामा इ़ब्न कसीर ने सीरत नबविय में, इमाम सुयूती ने खसाइस कुबरा में, इमाम बैहखी ने दलाइल नबूवह में वर्णन किया हैः

(सुबूलुल हुदा वर्रिशाद, जिल्द 1, पः 341 / अल सीरह अल नबूवह इबन् कसीर, अल खसाइस कुबरा, दलाइल नबूवह लिल बैहखी, अल असतियआ़ब फी मअ़रह अ असहाब, तारीक़ डमास्कस)  

{और अल्लाह तआ़ला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है,

मुफती सैय्यद ज़िया उद्दीन नक्षबंदी खादरी

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com